Friday, July 28, 2017 Newslinecompact.com अपना होमपेज बनाएं |
newslinecompact Logo
banner add
आपके पत्र
आपके पत्रMay 03, 2016

आपके पत्र

ये आंसू मेरे...May 03, 2016

मीडिया में ऐसा आते रहता है कि देश के न्यायालयों में कितने-कितने करोड़ मामले वर्षों से पड़े हैं। सवाल है ये किस नेचर के हैं। इसका विवरण भी आना चाहिए। एक और बात अब देश में शिक्षा बढ़ी है, लोकतंत्र ने ज..

आपके पत्रApr 22, 2016

आपके पत्र

आपके पत्रApr 05, 2016

आपके पत्र

कांग्रेस हताशNov 08, 2015

यह कितने दुर्भाग्य का विषय है कि जब सोनिया मंडली ने 2004 में अल्पसंख्यक मंत्रालय बना कर हिंदुओं के राजस्व द्वारा संग्रहित कोष से अल्पसंख्यकों विशेषत: मुसलमानों को लाभान्वित करने के लिए अरबों रुपये की योजनाएं बनाने का असंवैधानिक कार्य किया, तब कोई धार्मिंक भेदभाव व समाज का विभाजन नहीं हुआ था?

आपके पत्रNov 06, 2015

देश में कोई भी घटना घटती है और हम सब अपने आपको अलग-अलग राजनैतिक खांचों में बांटकर उस पर चर्चा करना शुरू कर देते हैं। कभी किसी के बयान पर, कभी किसी कार्यक्रम पर, कभी किसी की गिरफ्तारी पर, कभी किसी हादसे पर।

आर्थिक नीतियों से बढ़ रही विषमताNov 04, 2015

आज ग्रामीणों से रोजगार छिनते जा रहे है, देश के नागरिक महंगाई व विषमता का बोझ सहने के लिए विवश हैं। आर्थिक समता का लक्ष्य हासिल करने पर ही शांतिप्रिय व अहिंसक समाज का स्वप्न साकार हो सकता है।

बडे दिलवाले अभिनेता हैं अमिताभ
बडे दिलवाले अभिनेता हैं अमिताभNov 02, 2015

बिग बी ने कहा कि यह राशि गरीबों में वितरित की जाए। इसके लिए अमिताभ प्रशंसा के पात्र हैं। वास्तव में यह राशि गरीबों के कल्याण की योजनाओं में खर्च की जाए या फिर उन सैनिकों के परिवारों की सहायता में व्यय की जाए जो देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गए तो बेहतर होगा क्योंकि सैनिक देश के रियल हीरो होते हैं।