Tuesday, October 24, 2017 Newslinecompact.com अपना होमपेज बनाएं |
newslinecompact Logo
banner add
संपादकीय
Publish Date: Nov 08, 2015
दुःख तो बांटने से घटता है
title=



झूठी हंसी से आप दूसरों को तो धोखा दे सकते हैं पर अपने आप को नहीं। यह फिल्मी गीत आज भी फिट बैठता है के “तुम इतना क्यों मुस्करा रहे हो, क्या गम है जिसको छिपा रहे हो”। यह सोचना बंद कर दें कि लोग क्या कहेंगें अगर आपने अपना दर्द या परेशानी उनको बता दी तो। मगर मेरी सोच में यह नजरिया गलत है, आप दबाव में आ जाऐंगें, आपको बहुत जल्द तनाव घेर लेगा....लोग कहते हैं कि जीवन एक रंगमंच है आप जितना बेहतर अभिनय करेगें उतने अधिक सफल होगें पर – कब तक? कलाकार भी कुछ समय तक अपनी प्रस्तुति दे अपने मूल स्वरूप में लौट आता है। आप भी अपना मेकअप उतार यथार्थ में जियें- राहत महसूस करेंगें। यदि आप अन्दर से खुश हैं तो अपने आप ही मुस्कुराहट आपके चेहरे पर आ जायेगी। बनावटी खेल खेलना बंद कर दें। आप ड़रते क्यों है, आप अपनी छवि को लेकर क्यों परेशान होते हैं। सब के साथ सब घटता है। दुःख तो बांटने से घटता है।झूठी सकारात्मकता का ढोंग मत करें, जो है उसे प्रस्तुत करें। आन्नद मिलेगा। आजकल झूठी सकारात्मकता पर जोर दिया जाता है। पहले आप एक अच्छे व सच्चे व्यक्तिव का विकास करें। यदि आप परेशान या दुखी हैं तो अपने दुख व परेशानी को अपनों के साथ बांट उसे कम करें...मेरा मानना है सुख है या दुःख है उसे उसी स्थिति में स्वीकारना सीखें। न्यूट्रल विचारधारा रखें। पर नजरिया तो सकारात्मक की ओर ही होना चाहिये। जो खाली है उसे भरें। यानि जो दुःख है उसका निवारण करें। आनन्द रूपी घडा स्वतः ही भर जाएगा और जब वह छलकेगा तो मुस्कुराहट बन आपके चेहरे की शोभा बढ़ायेगा। देशदीपक मिश्रा की फेसबुक वॉल से।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।